<no title> वरिष्ठ पत्रकार राजनाथ सिंह सूर्य का निधन

  • आज सुबह 82 वर्ष की आयु में वरिष्ठ पत्रकार राजनाथ सिंह सूर्य का निधन हो गया उनके निधन के साथ ही पत्रकारिता का एक युग समाप्त हो गया सूर्य जी राजनीतिक पत्रकारिता के मसीहा थे पिछले 50 वर्षों से उन्होंने बिना किसी रिकॉर्ड और बीसी बिना किसी कंप्यूटर के अपने दिमाग में पूरी हिंदुस्तान की राजनीति फंसा रखी थी और उनकी आर्टिकल बिना किसी मदद और बिना किसी लेखा-जोखा के बनते थे उनको एक एक राजनीतिक का एक एक एक एक कहानी उनको मालूम चाहिए उन जैसा पत्रकार हमने नहीं देखा सबसे पहले हिंदुस्तान समाचार में थे आज अखबार में रहे उसके बाद 1988 में स्वतंत्र भारत के संपादक बने हम को उनके अधीन काम करने का मौका मिला उनकी कड़क मैया जी सुंदर लेखन मधुर भाषा सबको साथ लेकर चलने की कला इसमें हम सब इस पूरे स्टाफ का सतन भारत को के लोगों का मन मोह रखा था सभी लोग दिलों जान से उनके लिए जुटते थे भाग्य दुर्भाग्य से 1990 में उन्हीं के समय अयोध्या में कारसेवा हुई मुलायम सिंह ने गोली चलाई और हमारे में कर्फ्यू जैसी हालत हुई बिजली काट दी गई लाठीचार्ज हुआ लेकिन यह शख्स था जो अयोध्या से लेकर जहां तक घटा रहा मुलायम सिंह की किसी भी रंगबाजी को सहने से इंकार कर दिया और बाढ़ से और खबरों से कोई समझौता नहीं किया उस समय भाजपा के दो सांसद मुरली मनोहर जोशी लालकृष्ण आडवाणी उन्हीं की देन है 300 से ऊपर सांसद दिल्ली में बैठे सरकार बना रहे हैं हमको राज्यसभा का सदस्य बनाया गया लेकिन मैया जी और राजनीति को सफल नहीं होने दिया लेकिन क्षेत्र में उन्होंने एक बनाया और वह आज सुबह समाप्त हो गया वह भी वह अपने शरीर को मेडिकल कॉलेज को दान कर गए थे उनकी अंत्येष्टि को जलाया नहीं गया आज शाम 5:00 बजे गाड़ी है आज सुबह वैसी वर्ष की आयु में वरिष्ठ पत्रकार राजनाथ सिंह सूर्य का निधन हो गया उनके निधन के साथी पत्रकार का गाय युग क्षमा हो गया शोर जी राजनीतिक पत्रकारिता गेम मसीहा से पिछले 50 वर्षों से बिना किसी रिकॉर्डिंग जावेद स्थान राजनाथ सिंह


Popular posts
यह उस छविराम डाकू की कहानी है जिसने एटा जिले के अलीगंज थाने में घुसकर सारे पुलिस वालों को मार कर हथियार लूट लिए थे
बिल हटी का जंगल जहां 2 दर्जन से अधिक आदमी और औरतों का हड्डियों का कंकाल देखकर कलेजा कांप उठा पता चला यहां लखनऊ और आसपास के जिलों से अपराधी लोगों का अपरहण करके लाते हैं और मार कर फेंक देते हैं फिरौन की लाश को गिद्ध 1 घंटे में चट कर जाते हैं अब सुनाते हैं उस जंगल की सनसनीखेज कहानी
तमाम पुलिसवालों की हत्या करने वाले दुर्दांत खूंखार डाकू छविराम उर्फ़ नेताजी को कैसे लगाया पुलिस ने ठिकाने नहीं मानी सरकार की यह बात कि उसको जिंदा आत्मसमर्पण करवा दो पूर्व डीजीपी करमवीर सिंह ने कहां हम इसको माला पहनकर आत्मसमर्पण नहीं करने देंगे और सरकार को झुका दिया कहानी सुनिए आरडी शुक्ला की कलम से विकास उसके सामने कुछ नहीं था
कुदरत से टकराने का दंड भोग रहे हैं दुनिया के इंसान आरडी शुक्ला की कलम से
सांसद की गाड़ी बरसाती गड्ढे का शिकार
Image