बुद्धेश्वर महादेव मंदिर का मेला लखनऊ का पौराणिक मंदिर

लखनऊ में एक ऐसा भोलेनाथ का मंदिर है जहां सोमवार को नहीं बुधवार को महादेव की पूजा होती है यह वह ऐतिहासिक स्थल है जान लखनऊ नहीं दूर-दूर से लोग आते हैं और दर्शन करते हैं अपनी मनोकामना पूर्ण करवाते हैं लेकिन यहां बुद्ध के दिन भीड़ होती है यहां लोगों को अपार श्रद्धा है इस मंदिर की खास बात यह है यह लखनऊ का पौराणिक सैकड़ों साल पुराना मंदिर है यहां पर लोग बुद्ध के देना कर  अपनी मनोकामना पूर्ण करवाने के लिए दर्शन करतेे हैं सोमवार के चारों बुद्ध पर यहां अपार भीड़ होगी और यहां आनेे वालों ताता लगा रहता है जिसने भी यहां प्रेम से भगवान से कुछ मांगा उसको वह मिलता है ऐसी कहावत है अभी इस बुद्ध को वहां अपार भीड़ थी यह मंदिर लखनऊ से कम से कम 10 से 15 किलोमीटर की दूरी पर है या मंदिर राजाजीपुरम के आगे लखनऊ आगरा एक्सप्रेस वे के पास स्थित है हरदोई से यहीं आकर रास्ता मिलता है  फिर वहां से पुराने लखनऊ होते हुए  शहर में आया जाता है  प्रदीप दीक्षित की विशेष खबर र


Popular posts
यह उस छविराम डाकू की कहानी है जिसने एटा जिले के अलीगंज थाने में घुसकर सारे पुलिस वालों को मार कर हथियार लूट लिए थे
कुदरत से टकराने का दंड भोग रहे हैं दुनिया के इंसान आरडी शुक्ला की कलम से
बिल हटी का जंगल जहां 2 दर्जन से अधिक आदमी और औरतों का हड्डियों का कंकाल देखकर कलेजा कांप उठा पता चला यहां लखनऊ और आसपास के जिलों से अपराधी लोगों का अपरहण करके लाते हैं और मार कर फेंक देते हैं फिरौन की लाश को गिद्ध 1 घंटे में चट कर जाते हैं अब सुनाते हैं उस जंगल की सनसनीखेज कहानी
योगी जी से घबराकर बौखलाहट में करवाई गई है कानपुर की यह घटना जल्दी बेनकाब होंगे साजिशकर्ता आरडी शुक्ला की कलम से
पिता को मां के दरबार में समर्पित कर आया और फिर क्या हुआ मेरी जिंदगी का