संपादक के घर में चोरी दो कैसेट फिल्मी गानों के बरामद कराने के लिए एक हफ्ते खुद पुलिस के साथ दबिश दी एक ट्रक सामान बरामद हुआ तब कहीं जाकर मिला उनका गाने का कैसेट

आरडी शुक्ला द्वारा यह बात उस समय की है जब मैंने क्राइम रिपोर्टिंग शुरू की तो हमारे संपादक थे स्वर्गीय वीरेंद्र सिंह जी उनको पढ़ने और गाना सुनने का शौक था बाकी उनको कोई मतलब नहीं हुआ करता था एक दिन उनके घर की खिड़की तोड़कर चोर घुसे पेपर मिल कॉलोनी में जो महानगर थाने के अंतर्गत आती है चोरों को अंदर किताबों के अलावा कुछ दिखाई नहीं दिया वहां सिर्फ कुछ कैसेट रखे हुए थे उस समय कैसेट भी काफी कीमती समझे जाते थे कैसेट चोर उठा ले गए संपादक जी ने हमसे कहा कि उनको कोई सामान नहीं चाहिए उनका जो अंग्रेजी के दो गानों के कैसे रहें वह किसी भी हालत में मिलने चाहिए अब आप सोचें कि समान तो उनका कुछ थोड़ा बहुत और भी गया था लेकिन उन्होंने कहा कि उन्हें कैसेट हर हालत में चाहिए उन्होंने विदेश से मंगाए थे और उनके बहुत ही चहेते कैसेट वे रोज सुनते थे उनको अब यह चैलेंज का मामला था वह कैसे यहां लखनऊ में मिलने नहीं थे वरना ले आते और उनको दे देते अब महानगर पुलिस और मैं दोनों सकते में थे कि कैसे क्या किया जाए संपादक नाराज थे हमने का किसी भी हालत में कैसेट चाहिए पहले की पुलिस थी फिर वह लग गई और हम लोग लग गए कि उस क्षेत्र में कौन कौन चोर है किसने चोरी की है आखिर में देखिए यह मालूम हो गया कि मंगल चोर है जो चिनहट से लेकर महमूदाबाद देवा और उस क्षेत्र तक रहता है और इधर शहर से चोरी करके अपने इलाके में घुस जाता है जाकर एक महीना हो रहा था मंगल चोर हाथ में लग रहा था चिनहट से देवा के आगे तक करीब 50 गांव में हम लोग छापे मार चुके थे और हर बार जिस घर में जाते वहां सामान तो मिलता लेकिन मंगल नहीं मिलता मंगल चोर नहीं मिलता और ना ही कैसेट वहां तो महिलाओं के समान मिलते थे मंगल चोर की एक खासियत थी कि वह महिलाओं के लिए भी चोरी करता था उस उधर देहात में उसकी इतनी महिला प्रेमिका ए थी कि वह उनके लिए शहर से चोरी करके समान ले जाता था साड़ियां कपड़े और उनको बांटता था आप यकीन नहीं मानेंगे की चिनहट से महमूदाबाद देवा के लगभग 50 गांव में हम लोगों ने छापे मारे और एक ट्रक समान बरामद किया लेकिन कैसेट नहीं मिला क्योंकि मंगल चोर हाथ नहीं लगा आखिर में एक रात सटीक मुखबिरी पर देवा के एक गांव में जब पुलिस और हम लोगों ने छापा मारा तो रात करीब 2:00 बजे मंगल एक घर के पीछे तालाब था वह कूदा उसमें पैर के भागने लगा रात का करीब 2:00 बज रहा था पुलिस और हम लोगों ने उसे घेर रखा था इत्तेफाक की बात थी कि मेरे कंधे पर राइफल थी मैं उसको लिए हुए कूद गया और उसको जाकर पकड़ा पकड़ कर बाहर जाए पानी से मैं राइफल के मैं पानी मैं कूद गया था जाड़े की रात थी जैकेट भी पहना था सब भी गया था वहीं पर गांव में आग जलवा कर जब खूब तापा तब जाकर कहीं हमारे होश ठिकाने आए काफी पुलिस थी साथ में मंगल को पकड़ा और उसको जब लेकर लखनऊ आए आते आते पुलिस की 2 गाड़ियां चोरी के सामान से भर गई थी लखनऊ आकर जब उसको एक रात टाइट किया गया तब उसने एक महिला के घर से दोनों कैसेट बरामद करवाएं मंगल की एक खासियत थी क्यों जिस घर में भी रुकता था वहां की महिलाओं के लिए वह काफी सामान लखनऊ से चोरी करके ले जा कर देता था संपादक जी के दो कैसेट बरामद करवाने में लगभग 100 से ऊपर चोरियों का माल मिल गया और लगातार एक महीने तक हम लोग दबिश देते रहे जब संपादक जी को हमने कैसेट दिया तब उन्होंने कहा नहीं तुम वाकई क्राइम रिपोर्टर हो हमें उम्मीद नहीं थी कि यह कैसे वापस मिलेंगे यह हमारे लिए बहुत कीमती थे घर हमारी नौकरी बची लेकिन जितनी मेहनत उनको कैसेट को बरामद करने में पुलिस ने की उससे यह तो हो गया कि सैकड़ों चोरियों का माल उस मंगल चौक से लोगों को वापस मिल गया थाने पर आ गए लोग पुलिस की बहुत तारीफ कर रहे थे मैं मन में सोचता था कि अगर संपादक जी के कैसेट चोरी ना हुए होते तो इन विचारों का हिस्सा मान कभी जिंदगी में नहीं मिलता


Popular posts
यह उस छविराम डाकू की कहानी है जिसने एटा जिले के अलीगंज थाने में घुसकर सारे पुलिस वालों को मार कर हथियार लूट लिए थे
बिल हटी का जंगल जहां 2 दर्जन से अधिक आदमी और औरतों का हड्डियों का कंकाल देखकर कलेजा कांप उठा पता चला यहां लखनऊ और आसपास के जिलों से अपराधी लोगों का अपरहण करके लाते हैं और मार कर फेंक देते हैं फिरौन की लाश को गिद्ध 1 घंटे में चट कर जाते हैं अब सुनाते हैं उस जंगल की सनसनीखेज कहानी
तमाम पुलिसवालों की हत्या करने वाले दुर्दांत खूंखार डाकू छविराम उर्फ़ नेताजी को कैसे लगाया पुलिस ने ठिकाने नहीं मानी सरकार की यह बात कि उसको जिंदा आत्मसमर्पण करवा दो पूर्व डीजीपी करमवीर सिंह ने कहां हम इसको माला पहनकर आत्मसमर्पण नहीं करने देंगे और सरकार को झुका दिया कहानी सुनिए आरडी शुक्ला की कलम से विकास उसके सामने कुछ नहीं था
कुदरत से टकराने का दंड भोग रहे हैं दुनिया के इंसान आरडी शुक्ला की कलम से
सांसद की गाड़ी बरसाती गड्ढे का शिकार
Image