उत्तर प्रदेश पुलिस ने तो महिलाओं से अपराध करने वाले हर शख्स को जेल के भीतर पहुंचा दिया

उत्तर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह आर डी शुक्ला द्वारा


हैदराबाद में पशु चिकित्सक की बलात्कार के बाद जलाकर हत्या किए जाने वाला सनसनीखेज मामला इस समय देश की सुर्खियों पर है संसद से लेकर सड़क तक लोग इस सत्य कांड को लेकर क्रोधित है अप पुलिस को कोस रहे हैं लेकिन यह सब लोग अपने गिरेबान में झांक कर नहीं देख रहे हैं वैसे उत्तर प्रदेश पुलिस के बारे में जहां तक मेरी जानकारी है उसने महिलाओं के साथ होने वाले किसी भी उत्पीड़न के मामले में मंत्री से लेकर विधायक और नीचे तक कि किसी भी आदमी को 24 घंटे भी बाहर नहीं रहने दिया उसे जेल के भीतर भेज दिया इससे ज्यादा पुलिस के हाथ में है क्या जिनके हाथ में है वह क्या कर रहे हैं


प्रियंका रेडी कि दुष्कर्म के बाद हत्या ऐसा जघन्य अपराध है कि जिसकी जितनी जल्दी से जल्दी जितनी कठोर सजा मिले वह कम है अब बात हैदराबाद पुलिस की हो तो वहां के बारे में मैं नहीं जानता कि वहां की पुलिस क्या करती हो वह कितना एक्टिव है लेकिन एक बात मैं साफ करा रहा हूं जब से उत्तर प्रदेश पुलिस की कमान ओपी सिंह जी ने संभाली है तब से प्रदेश में ऐसा तो है नहीं कि 1 महिलाओं का उत्पीड़न नहीं हुआ या उनके साथ अपराध नहीं हुए खूब हुए लेकिन क्योंकि मैं 40 साल से नित्य प्रति अखबार के लिए काफी समय देता हूं और अपराध संवाददाता होने के नाते अपराध की खबरों पर विशेष ध्यान देता हूं तो जो मैंने देखा है इधर किसी भी महिला के साथ जब अपराध हुआ तो यूपी पुलिस ने 24 घंटे के अंदरअभियुक्त को जेल के भीतर भेज दिया वह नित्यानन्द हो पूर्व गृहमंत्री या वह कुलदीप सेंगर हो या फिर वह छोटे गांव के अपराधी हो या शहर के या कस्बे के अगर किसी ने किसी महिला के साथ दुराचार  दुर्व्यवहार किया उसको तत्काल पास्को एक्ट और जो भी उचि धाराओं में  पुलिस ने चालान करके जेल भेजा उनको फरार होने का मौका भी नहीं दिया इससे ज्यादा पुलिस क्या कर सकती है पुलिस के पास कोई ऐसा आईना नहीं है की घर के भीतर या पूरे शहर को एक साथ देख सके लेकिन प्रदेश भर में जिस तरीके से योगी जी कि सरकार आने के बाद ओपी सिंह जी ने पुलिस महानिदेशक पद का कार्यभार संभाला तब से ऐसा लगता है कोई बलात्कारी या दुराचारी हरकत करने के बाद 24 घंटे जेल के बाहर नहीं रह पाया पाया इस बात की गारंटी तो मैं ले सकता हूं नित्य प्रति अखबार पढ़ता हूं हां हरकत हुईदुराचारी तुरंत गिरफ्तार हुआ जो पुलिस का काम थापुलिस के पास और कितने काम है और कितने तरह के अपराध है पुलिस को दोष देना पुलिस को बुरा कहना सर्वसाधारण का आजकल गुण हो गया अगर वह पुलिस को गालियां नहीं देता है तो वह काबिल व्यक्ति नहीं कहा जाएगा लेकिन जो भी समझदार व्यक्ति है वह इस मामले में पुलिस की लापरवाही नहीं कहेगा उसका साफ कारण है हमारा समाज बदल रहा है स्मार्टफोन नेट इतनी तेजी से कक्षा 1 से लेकर ऊपर तक के बच्चों को इस तरीके से बिगाड़ रहे उन लोगों को जो फोन से बर्बाद हो रहे हैं खुली नंगी फोटो देख रहे हैं अश्लील वीडियो इधर से उधर कर रहा है उनको कौन सुधरेगा यह काम समाज का है घर का है घर के भीतर का है स्कूल का है कॉलेज का है ना कि पुलिस का तो फिर आरोप पुलिस को क्यों देते हैं कोई भी अपराध होता है पुलिस अपराधी को गिरफ्तार करके अदालत भेज देती है वहां से जेल चला जाता है वह उसके बाद सजा किसको देनी है अदालत को अदालतें क्या कर रही हैं हां कहा जा सकता है कि अदालतें मुकदमों के बोझ से ऐसा दब गई है कि वहां महत्वपूर्ण मुकदमों में भी फैसला नहीं दे पा रही है आखिर अब दोष किसका किसका है पुलिस का सबसे सस्ती पुलिस मिलती है जो समाज अपराधियों से बचाती है दिन रात ड्यूटी करती है 24:00 24 घंटे बिना खाए पिए अपराधियों को पकड़ने के लिए दौड़ती रहती है और अंत में सारा दोष उसी पर मार दिया जाता है आखिर ऐसा क्यों हो रहा है क्या वह हमारे समाज के हिस्से नहीं है बाकी खराबी तो हमारे घर के भीतर से शुरू हो गई घर के भीतर ही से समाज वन बिगड़ रहा है हम घर के भीतर संभाल नहीं पा रहे हैं और दोष देने लगते हैं पुलिस को उनको क्या मालूम रहता है कि कहां पर क्या होने वाला है लेकिन होने के बाद सबसे ज्यादा एक्टिव और सबसे ज्यादा चुस्त-दुरुस्त कौन होता है अपराधी को कौन पकड़ता है कोई अपराधी आज तक फरार तो हो नहीं पाया और इक्का-दुक्का ही कुछ दिन फरार रहते हैं वह विवाद में पकड़ जाते हैंउनको आगे पीछे पुलिस कहीं ना कहीं से खोज ही लाती है तो फिर आखिर पुलिस दोषी क्यों है पुलिस को दोष दे देकर हम लोगों ने उनके मनोबल को आज इतना गिरा दिया है अगर आप पुलिस के साथ बैठकर उनके दुख को सुनें तो आपके होश फाख्ता हो जाएंगे कि वह किस असहज स्थिति में समाज की रक्षा कर रहे हैं उसके बावजूद हम आप उनको बुरा भला कहने में जरा भी नहीं सोचते बहुत अच्छी दिशा नहीं है आने वाला कल इतना बुरा होने वाला है आप वह दिन देखेंगे कि जिसको देखकर आपको तो घृणा पैदा ही होगी पूरा समाज घृणित हो हो जाएगा अगर जिस हाल में आज नेट और स्मार्टफोन का इस्तेमाल खुलेआम गंदी चीजों को देखने के लिए हो रहा है अपराध के लिए हो रहा है जब उसका विस्फोट होगा शायद आप सहन नहीं कर पाएंगे तो फिर  आप उस हालात पर काबू भी नहीं पाया जा पाएगा पुलिस का तो उसमें कोई रोल भी नहीं है छोटे-छोटे बच्चों को फोन  आप लोग दिलवा देते हैं पूरा परिवार बैठ के साथ में सारी चीजें देखता है तो ऐसी हालत में पुलिस पर क्यों लांछन लगाते हैं क्या यह सबपुलिस करवा रही है उत्तर प्रदेश पुलिस किस कांड और किस हरकत में अभियुक्तों को गिरफ्तार नहीं किया या उनको सजा दिलवाने के लिए जेल नहीं भेजा अदालत की प्रक्रिया ठीक करवाने के लिए लड़ाई लड़ी जाए तो कुछ अच्छा लगेगा लेकिन वहां पर हमारे अधिवक्ता गण किस तरह खुले रूप से बचाव पक्ष की ओर खड़े हो जाते हैं और अंतिम मुकदमा भी छुड़वा लेते हैं पुलिस कुछ बोलती है तो मार खाती है जगह जगह पर पुलिस पर लगातार हमले हो रहे हैं क्या हमारे पुलिस की इसी तरह इज्जत बढ़ेगी यह उनको जलील कर करके हम कितना नीचे गिरा रहे हैं उनका  जो कुछ भय बना था वह तो हम  खत्म करते जा रहे हैं अब जरा नीचे की फोटो को देखें वह क्या कह रही है यह फोटो तो एक बानगी भर है इससे ज्यादा उदाहरण क्या दे सकते हैं सोचना हमारे बच्चों को और सबसे पहले हमको को भी पड़ेगा हमारी महिलाओं को पड़ेगा  कि हम भारत को क्या बनाना चाहते हैं हम उस खतरनाक विस्फोट से बचने के लिए अपने पुलिस वालों के मन में मनोबल को बढ़ाओ अपने पुलिस वालों के मनोबल को गिराकर हमको कुछ नहीं मिलेगा हम लोग भी अपराध संवाददाता थे पत्रकार है आज 70 साल के हो चुके हैं इस तरह के हालात कभी नहीं देखे कि पुलिस को मारपीट कर पुलिस का मनोबल गिरा रहे हैं है और पुलिस से ही सहायता मांगे वैसे हमारी उत्तर प्रदेश पुलिस पुरजोर ढंग से प्रदेश की कानून व्यवस्था उसमें चाहे महिलाओं का अपराध हो चाहे पुरुषों का अपराध हो उस पर पूरी तरह काबू पा चुकी है हमारे उत्तर प्रदेश पुलिस में इतना दम है कि अगर उसको जनता पूरी तरह दोस्त बनाकर सहयोग करें तो निश्चित तौर पर समझ लीजिए हमारे प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के साथ कार्य कर रहे पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह इतने सक्षम व्यक्ति हैं कि वे प्रदेश की कानून व्यवस्था को चुस्त-दुरुस्त रखने में पहले भी सफल रहे और आगे भी सफल रहेंगे


Popular posts
यह उस छविराम डाकू की कहानी है जिसने एटा जिले के अलीगंज थाने में घुसकर सारे पुलिस वालों को मार कर हथियार लूट लिए थे
बिल हटी का जंगल जहां 2 दर्जन से अधिक आदमी और औरतों का हड्डियों का कंकाल देखकर कलेजा कांप उठा पता चला यहां लखनऊ और आसपास के जिलों से अपराधी लोगों का अपरहण करके लाते हैं और मार कर फेंक देते हैं फिरौन की लाश को गिद्ध 1 घंटे में चट कर जाते हैं अब सुनाते हैं उस जंगल की सनसनीखेज कहानी
तमाम पुलिसवालों की हत्या करने वाले दुर्दांत खूंखार डाकू छविराम उर्फ़ नेताजी को कैसे लगाया पुलिस ने ठिकाने नहीं मानी सरकार की यह बात कि उसको जिंदा आत्मसमर्पण करवा दो पूर्व डीजीपी करमवीर सिंह ने कहां हम इसको माला पहनकर आत्मसमर्पण नहीं करने देंगे और सरकार को झुका दिया कहानी सुनिए आरडी शुक्ला की कलम से विकास उसके सामने कुछ नहीं था
कुदरत से टकराने का दंड भोग रहे हैं दुनिया के इंसान आरडी शुक्ला की कलम से
सांसद की गाड़ी बरसाती गड्ढे का शिकार
Image