दिल के रोगियों पर भारी पड़ गई गुंडई चिकित्सकों ने रोका आपातकालीन सेवा का कार्य हजारों हजारों रोगियों को परेशानी

लारी कार्डियोलॉजी विभाग में पिछले 1 सप्ताह से डॉक्टरों ने इमरजेंसी का काम ठप कर रखा है और वह करें भी क्यों ना जब वहां पर आने वाले लोग इलाज करने के नाम पर डॉक्टरों से मारपीट करते हैं और वहां तोड़फोड़ कर डाली इमरजेंसी के दरवाजे तोड़ दिए आप सोचें प्रदेश का एकमात्र ऐसा लारी विभाग है लखनऊ मेडिकल कॉलेज का जहां सबसे सस्ते में दिल के रोगियों का इलाज होता है लाखों लाख लोग यहां अपना इलाज करवा कर स्वस्थ घूम रहे हैं महंगे इलाज के लिए बड़े बड़े अस्पताल हैं हिंदुस्तान में लेकिन यहां सस्ते से सस्ते में इमानदारी से तजुर्बे का डॉक्टर दिल के रोगों का इलाज कर देते हैं लारी का नाम हिंदुस्तान में ही नहीं विदेशों तक लिया जाता है कहा जाता है कि यहां सबसे अच्छा इलाज होता है दिल का उस अस्पताल में जहां रात दिन नामी-गिरामी डॉक्टर मरीजों का इलाज कर रहे हैं उन्हें ठीक कर रहे हैं वहां पर गुंडई का यह आलम है कि लोग रोज डॉक्टरों से मारपीट करते हैं इमरजेंसी में इस कदर तोड़फोड़ की गई है पिछले हफ्ते कि वहां से तंग आकर डॉक्टरों ने इमरजेंसी ही बंद कर दी अब पिछले 1 हफ्ते से वह काम नहीं कर रहे हैं केवल ओपीडी में पुराने मरीजों को देख रहे हैं आज जब हमने लारी सेंटर का दौरा किया तो वहां अजीबोगरीब हालत देखी पुलिस मौजूद थी पुलिस चौकी खुल गई अब वहांंं पीएसी लगाकर इमरजेंसी का काम  होगा आस्था हो रहा है जिला प्रशासन और लारी प्रशासन के बीच में आप सोचें कि आज क्या दशा हो गई हैै हमारे देश प्रदेश की कि जिन चिकित्सालयों में गरीब मरीजों का इलाज होता है खासतौर दिल का इलााज होता वहां पर भी गुंडे गुंडई से बाज नहीं आ रहे हैं मौत तो आनी है और वह किसी रूप में किसी जगह पर आ सकती है लेकिन मैं यह नहीं मान सकता कि कोई डॉक्टर जानबूझकर किसी मरीज की जान लेगा यह उसका जमीीर कभी गवारा नहीं कर सकता लेकिन हमारे लोग हैं कि वह डॉक्टर को भी आरोपित करते लारी में सुरक्षाकर्मी तो मुस्तैद है लेकिन उनकी भी एक सीमा है डॉक्टरों की भी एक गरिमा है उसको अगर हम बनाए नहीं रख सकते हैं तो यह हमारे लिए बहुत अफसोस की बात है आपको यकीन नहीं होगा कि प्रदेश नहीं देश में बड़े बड़े अस्पताल हैं जो लाखों लाख रुपए में काम करते हैं यहां हजारों हजार रुपए में चिकित्सक उसका इलाज कर देते हैं गरीब मरीज यहां बहुत ज्यादा आते हैं और किस तरह मेहनत करके यहां के डॉक्टर उनको ठीक करते हैं यह मैं जानता हूं क्योंकि मैं भुक्तभोगी हूं और कितनी मेहनत यहां का स्टाफ करता है उसमें भी उनको क्या मिलता है रोज झगड़ा फसाद यहां के डॉक्टर बहुत ही प्यारी डॉक्टर हैं बहुत ही मेहनत से काम करते हैं बड़े-बड़े अस्पतालों में इनकी मांग है लेकिन यह इस को छोड़कर लारी के नाम को जिंदा रखने के लिए वहां नहीं जाते मैं सिर्फ निवेदन करूंगा आप लोगों से और सभी जनता से कि कृपया हृदय रोगियों को ध्यान में रखकर यहां कम से कम इस तरह के उत्पात मचाया जाए जिससे कि इन डॉक्टरों का मनोबल गिरे और यहां ऐसी स्थिति उत्पन्न ना हो जिससे यहां के कर्मचारियों और डॉक्टरों का मनोबल गिरे यह हमारी एक ऐसी संस्था है जो ऐसे समय पर कार्य करती है कि जब आदमी का जीवन पूरी तरह खतरे में होता है इसका एहसास मैं कर चुका हूं और इन लोगों की मेहनत को भी मैंने देखा है आप लोगों से निवेदन है आप सभी जन के लोग चिकित्सकों का ख्याल रखें जो आपको जीवन दान देते हैं और धरती पर भगवान कहे जाते हैं वाकई वह भगवान होते हैं जिससे मैं आप पीड़ा में होते हैं और आपका वह इलाज कर रहे होते हैं आरडी शुक्ला द्वारा


Popular posts
यह उस छविराम डाकू की कहानी है जिसने एटा जिले के अलीगंज थाने में घुसकर सारे पुलिस वालों को मार कर हथियार लूट लिए थे
बिल हटी का जंगल जहां 2 दर्जन से अधिक आदमी और औरतों का हड्डियों का कंकाल देखकर कलेजा कांप उठा पता चला यहां लखनऊ और आसपास के जिलों से अपराधी लोगों का अपरहण करके लाते हैं और मार कर फेंक देते हैं फिरौन की लाश को गिद्ध 1 घंटे में चट कर जाते हैं अब सुनाते हैं उस जंगल की सनसनीखेज कहानी
तमाम पुलिसवालों की हत्या करने वाले दुर्दांत खूंखार डाकू छविराम उर्फ़ नेताजी को कैसे लगाया पुलिस ने ठिकाने नहीं मानी सरकार की यह बात कि उसको जिंदा आत्मसमर्पण करवा दो पूर्व डीजीपी करमवीर सिंह ने कहां हम इसको माला पहनकर आत्मसमर्पण नहीं करने देंगे और सरकार को झुका दिया कहानी सुनिए आरडी शुक्ला की कलम से विकास उसके सामने कुछ नहीं था
कुदरत से टकराने का दंड भोग रहे हैं दुनिया के इंसान आरडी शुक्ला की कलम से
सांसद की गाड़ी बरसाती गड्ढे का शिकार
Image