कुकरेल नदी नाले से फिर नदी बनी

कुकडी नदी की ऐतिहासिकता को देखते हुए अभी कुछ दिन पहले उसकी हालत और गंदगी को देखते हुए इंदिरा नहर से एक नाहर छोटी बनाकर उसमें पानी छोड़ा गया अब वह नदी का रूप ले रही है कुकरेल की ऐतिहासिकता जानने के लिए 80 गांव तक जाना पड़ता है जहां से वह निकली है कहा जाता है यह नदी एक कुत्ते की वफादारी के बाद जान देने यह कहानी है और वही से यह यह गोमती नदी में आकर मिलती है कुकरेल नदी के बारे में कहा जाता है कि अगर किसी को कुत्ता काट ले और वह उस नदी में नहा ले तो उसको और कोई दवा करने की जरूरत नहीं पड़ती उसका जहर खत्म हो जाता है यहां हजारों हजार लोग नहाने आते थे जिन को कुत्ते ने काट दिया था यही वजह रही है कि यह नदी पूरे प्रदेश में जानी जाती है यहां के महत्व को देखते हुए अभी कुछ दिन पूर्व इंदिरा नहर से एक छोटी नहर काटकर जलहरा गांव से होते हुए यहां मिलाई गई है जहां से उसको पानी मिल रहा है फिलहाल तो हालत यह हो गई थी कि यह एक गंदे नाले के रूप में परिवर्तित हो गई थी यहां इंदिरानग र और खुर्रम नगर से निकलने वाले नाले गंदे नाले सिविल लाइन के नारे इसमें मिला दिए गए थे और यह इतनी गंदी हो गई थी किसके करीब से होकर गुजर रहा बदबू देता था जब से राजनाथ सिंह यहां सांसद बने तब से लखनऊ में हो रहे विकास के साथ ही साथ इस नदी का भी विकास हो गया उसके अगल बगल से सुंदर रास्ते निकाले गए और इस नाले को नदी बना दिया गया फिलहाल इस नदी का रूप बहुत सुंदर हो गया है कभी बचपन में हम लोगों ने यहां तैरना सीखा था सुंदर साफ पानी हुआ करता था बीच में एनाले के रूप में परिवर्तित हो गई थी फिर से इसमें पानी डालकर उसको सुंदर बनाया जा रहा है कहां जाता है कुत्ता अगर काट ले और आप यहां नहा ले तो निश्चित तौर पर उसका जहर खत्म हो जाता है हजारों हजार लोग यहां इसी कारण से नहाने आते थे हजारों लोगों के यहां रोजगार चलते हैं लेकिन जब से अगल-बगल कालोनियां बनी और कब्जे बाजी शुरू हो गई तो यह नदी एक गंदी नाली के अलावा कुछ नहीं बची थी लेकिन चलिए फिलहाल इसमें पानी दिख रहा है और एक नदी का रूप भी दिखाई दे रहा है और अगर यह इसी तरह रहा धीरे धीरे यहां दोनों तरफ पर्यटन स्थल भी बनाया जा सकता है यह कार्य हमारे सांसद देश के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की पहल पर हो रहा है लखनऊ का विकास सबको खुला दिखाई दे रहा है लखनऊ वासी राजनाथ सिंह को धन्यवाद दे रहे हैं प्रदीप दीक्षित द्वारा


Popular posts
यह उस छविराम डाकू की कहानी है जिसने एटा जिले के अलीगंज थाने में घुसकर सारे पुलिस वालों को मार कर हथियार लूट लिए थे
बिल हटी का जंगल जहां 2 दर्जन से अधिक आदमी और औरतों का हड्डियों का कंकाल देखकर कलेजा कांप उठा पता चला यहां लखनऊ और आसपास के जिलों से अपराधी लोगों का अपरहण करके लाते हैं और मार कर फेंक देते हैं फिरौन की लाश को गिद्ध 1 घंटे में चट कर जाते हैं अब सुनाते हैं उस जंगल की सनसनीखेज कहानी
तमाम पुलिसवालों की हत्या करने वाले दुर्दांत खूंखार डाकू छविराम उर्फ़ नेताजी को कैसे लगाया पुलिस ने ठिकाने नहीं मानी सरकार की यह बात कि उसको जिंदा आत्मसमर्पण करवा दो पूर्व डीजीपी करमवीर सिंह ने कहां हम इसको माला पहनकर आत्मसमर्पण नहीं करने देंगे और सरकार को झुका दिया कहानी सुनिए आरडी शुक्ला की कलम से विकास उसके सामने कुछ नहीं था
कुदरत से टकराने का दंड भोग रहे हैं दुनिया के इंसान आरडी शुक्ला की कलम से
सांसद की गाड़ी बरसाती गड्ढे का शिकार
Image